गरीब कल्याण योजना

गरीब कल्याण योजना

गरीब कल्याण योजना : गरीबों के लिए ग्राम स्तर पर योजना की शुरूआत

वही भाजपा है जिसने सत्ता में कुछ महीनों के भीतर कई पहलों के माध्यम से शासन में अपने महत्व को व्यक्त करने की कोशिश की है। एक ऐसी पार्टी जो गरीबों के समर्थन पर सत्ता में शीर्ष पर आ गयी और अपने वादों के प्रति वफादार रहने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है। ( गरीब कल्याण योजना )

भूमि अधिग्रहण बिल के विवाद के दौरान इसकी किसान समर्थक छवि नष्ट हो गयी, अब यह एक नये संसोधन के साथ आयी है। इस बार, यह एक कार्यशाला का आयोजन कर रहा है। ( गरीब कल्याण योजना )

‘गरीब कल्याण योजना’ के लिये 19 अप्रैल 2015 को आरएसएस के विचारक रामबाबू म्हालगी प्रबोधनी के तत्वाधान में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस योजना को कम आय वर्ग के लोगों के कल्याण के लिये लागू किया गया था।( गरीब कल्याण योजना )

यह कार्यशाला सरकार द्वारा चलाये गये गरीबों के कल्याणकारी कार्यक्रमों के बारे में फिर से समीक्षा करेगी और उनसे प्रभावी ढंग से लागू करने और उनकी गरीबों तक अधिकतम पहुँच सुनिश्चित करने के तरीकों पर विचार करेगी।

जबकि वरिष्ठ मंत्रियों ने सांसदों को संबोधित किया और कहा कि इस योजना को ग्राम पंचायत स्तर पर लागू करने के लिये एक रोड मैप तैयार करने का प्रयास करें। संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू यह उम्मीद करते हैं कि गरीबों की इस कल्याणकारी योजना को कुछ समय के लिये सासंदों पर छोड़ देना चाहिए।

पार्टी कार्यकर्ताओं के मुताबिक, गरीबों के लिए सरकारी योजनाओं के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए सांसदों को “प्रेरित और मूल्यांकन” करने के प्रयास के रूप में देखा जाना चाहिए।

20 अप्रैल को शुरू होने वाले बजट सत्र के दूसरे छमाही से एक दिन पहले, कार्यशाला का आयोजन यह संकेत करता है कि नडीए सरकार भूमि अधिग्रहण अध्यादेश की संभावनाओं के बारे में संदेहास्पद है, जो इस सत्र में बहाली के लिये आ जायेगा।( गरीब कल्याण योजना )

कार्यशाला से उम्मीदें

कार्यशाला में भाजपा सरकार द्वारा चलाई गई कई योजनाओं को शामिल किया जाएगा। यह कार्यशाला ग्रामीण और शहरी विकास योजनाओं को समर्पित होगी।

इसके अलावा परिवहन मंत्री नितिन गडकरी सांसद आदर्श योजना पर एक प्रस्तुति देंगे। स्वास्थ्य मंत्री जे. पी. नड्ढा एमपीएलएडीएस (संसद के स्थानीय क्षेत्र विकास योजना) योजना के बारे में सांसदों को जानकारी देंगे।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज एक बड़े स्तर पर इस योजना में अपना ध्यान केंद्रित करेंगी और विकास के इस बड़े एजेंडे पर सांसदों को जागरूत करेंगी। मोदी उद्घाटन भाषण से इस कार्यशाला के लिए मंच तैयार करेंगे और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह सत्र का समापन करेंगे।

यदि यह कार्यशाला सफल हो जाती है तो भाजपा सांसदों के निजी सहायकों के लिए इसी तरह के कार्यों का आयोजन करेगी।

क्या कार्यशाला कांग्रेस के सफाये का रास्ता है?

एक समय था जब कांग्रेस “एक्सपोज भाजपा” के नाम से अभियान चलाकर एक आदर्श प्रलोभन तैयार करने के लिये काम कर रही थी, सत्तारूढ़ पार्टी को यह पता है कि योजनाओं की सफलता स्थानीय लोक प्रतिनिधियों या सांसदों की भागीदारी पर निर्भर करती है।

उन्हें विकास योजनाओं के बारे में अच्छी तरह अवगत होना चाहिये ताकि वे सरकार की योजनाओं में लोगों की सहायता प्राप्त कर सकें।

इस योजना को कांग्रेस के उस बड़े अभियान के जवाब में माना जा रहा है। पार्टी के उपाध्यक्ष, राहुल गाँधी, रविवार को रामलीला मैदान में राष्ट्रीय किसानों की रैली में उपस्थित लोगों को संबोधित करने के लिए तैयार हैं।

विपक्षी दल हमला करने के लिए इस मंच का लाभ उठाना चाहता है और सरकार को समृद्ध लोगों के रूप में दिखाना चाहता है।

Related posts

Leave a Comment